अकादमिक अखंडता आवश्यकताएँ

विद्यार्थियों के लिए पूर्णता शैक्षिक अंखडता बनाए रखना तथा किसी भी तरह की साहित्यिक चोरी से बचना आवश्यक है।

इस नीति के पालन के अलावा निम्नलिखित विशेष दिशा निर्देशों का पालन करना आवश्यक होगा।

शैक्षिक अखंडता

  • विद्यार्थी नियमित रूप से कक्षा में उपस्थित होंगे तथा किसी भी अनाधिकृत तरीके से उपस्थिति का दावा नहीं करेंगे।

  • दिए गए दिशा निर्देशों एवं निर्देशों का पालन करते हुए छात्र अपना आवंटित कार्य तथा परियोजित कार्य करेंगे और इसके लिए वो किसी भी प्रकार के गुप्त कार्य में संलग्न नहीं होंगे।

  • छात्र व्यक्तिगत रूप से और गंभीरता से परीक्षा और विश्वविद्यालय की परीक्षाओं में भाग लेंगें और परीक्षापत्र लिखते समय एवं अपने और दूसरों के ग्रेड जोड़-तोड़ के लिए अवैध रूप से धोखाधड़ी या अनुचित साधनों का उपयोग नहीं करेगें। किसी अन्य छात्र द्वारा किए गए इस तरह के व्यवहार में छात्रों को स्वंय भी संलग्न नहीं होगा।

  • छात्र व्यावहारिक परीक्षा में भाग लेने के लिए और दिए गए निर्देशों के अनुसार अपने काम के प्रदर्शन करेगें और निषिद्ध तरीकों को अपनाने या परिणामों को गलत ढंग से पेश नहीं करेंगें। व्यावहारिक परीक्षा के दौरान छात्र किसी भी तरह के अवैध साधनों से इस्तेमाल में किसी अन्य छात्र की सहायता नहीं करेगा।

  • छात्र पुस्तकालय के सीखने के संसाधनों का उपयोग करेगें साथ ही विभागों एवं अध्यापकों द्वारा उपलब्ध सामग्री का अनुचित प्रयोग नहीं करेंगे जिससे दूसरे छात्र को असुविधा हो।

  • छात्र प्रयोगशाला सुविधाओं का उपयोग करेगें और व्यावहारिक कार्य के लिए उपलब्ध सामग्री का ध्यान एवं लगन से प्रयोग करेंगें। जिससे किसी दूसरे छात्र के कार्य में बाधा एवं किसी भी प्रकार के नुकसान या उपकरण टूटने जैसी बाधा ना उत्पन्न हो।

  • छात्रों को कक्षा एवं महाविद्यालय की गतिविधियों में अपनी क्षमतानुसार एवं टीम वर्क की सच्ची भावना से भाग लेना होगा।

  • जो प्रतिकूल शिक्षण-अधिगम वातावरण या नियमों को प्रभावित करता है और कॉलेज, विश्वविद्यालय और सरकार के नियमों के खिलाफ है ऐसे किसी भी कार्य में छात्र संलग्न नहीं होंगे और ना ही किसी दूसरे के ऐसा करने के कारण बनेंगे।

  • छात्रों को किसी भी तरीके से अपने अकादमिक प्रदर्शन को गलत ढंग से पेश नहीं करेंगे।

  • छात्रों को हमेशा से स्वंय से संबंधित प्रशासनिक और शैक्षणिक दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करना होगा और किसी भी अन्य की ओर से हस्ताक्षर या जालसाज हस्ताक्षर नहीं बनाए जाएं।

साहित्यिक चोरी/ काव्य-चोरी/ ग्रंथ-चोरी

  • छात्र किसी अन्य के कार्य को स्वयं का बता के प्रस्तुत नहीं करेंगे। इसके अलावा किसी पुस्तक, वेबसाइट से कॉपी नहीं करेंगे अन्यथा लेखक के नाम के साथ वैध तरीके से टीका ग्रंथों का भी उपयोग करेंगे।

  • आंतरिक मूल्यांकन हेतु छात्रों द्वारा दिए गए सभी प्रकार के आवेदन जैसे आवंटित कार्य, परियोजित कार्य एवं प्रस्तुतिकरण, उनके स्वयं के या उनके ग्रुप के कार्य होना चाहिए। स्क्रैप बुक के आयोजन के अलावा (जिसमें सभी स्त्रोतों का साफतौर पर उल्लेख हो) किसी अन्य पुस्तक या वेबसाइट से कॉपी नहीं किया गया होना चाहिए।

  • किसी भी परीक्षा या मूल्यांकन के समय छात्र किसी अन्य छात्र का कार्य भी कॉपी नहीं करेगा।